प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लेकर देश में तरह- तरह की चर्चाएं होती है, कभी उनके फैसलों को लेकर तो कभी उनके व्यक्तित्व को लकेर और सबसे ज्यादा तो चर्चा उनके परिवार को लेकर होती है. कि पीएम मोदी अपने परिवार का कतई खयाल नहीं रखते हैं. और इसे लेकर प्रधानमंत्री मोदी की लोग आलोचना भी करते हैं.

इन सब बातों जिक्र इसलिए कर रहें कि क्यों कि इन दिनों सोशल मीडिया पर पीएम मोदी की मां से जुड़ी तस्वीर जमकर वायरल हो रही हैं. एक तस्वीर में मोदी की मां हीराबेन ऑटो में बैठी दिख रही हैं तो वहीं दूसरी तस्वीर में मुंह पर ऑक्सीजन मास्क लगाए किसी अस्पताल में दिख रही हैं. इन तस्वीरों को लोग कई दावों के साथ शेयर कर रहे हैं.

जरुर पढ़ें:  अफवाहबाज़ों को दिव्यांका त्रिपाठी का संदेश मैं जिंदा हूं, जीते जी मत मारो

जिसमें लिखा है कि हिंदुस्तान के प्रधान मंत्री की माँ जी को ऑटो रिक्शा से हॉस्पिटल ले जाते समय, घर के सदस्य. अरे गद्दारो चोर बोलने से पहले अपने आप मे झाक कर देखो, नही मिलेगा ऐसा ईमानदार नेता. न हराम का खाता है न खाने देता है. इसके अलावा प्रवीन सिंह नाम के भाई साहब ने पोस्ट करते समय लिखा है.  देखो चोर की माँ अपनी आलीशान कार से अमेरिका में इलाज कराने जा रही हैं.  ऐसे दावो के साथ तस्वीर को कई फेसबुक पेजों और ग्रुपसों में शेयर किया जा रहा है. इन पोस्ट को हज़ारों लोगों ने लाइक और शेयर किया है.

 

इस वायरल तस्वीर की पड़ताल की तो बात कुछ और ही निकलकर आई. दरअसल ये तस्वीर एकदम ठीक हैं. लेकिन तस्वीर को जिन दावो के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है उनमें झोल है.बता दें कि ये दो तस्वीर तो एक ही मौके की हैं जबकि ये एक अलग है.

जरुर पढ़ें:  वायरल पड़ताल : राजीव गांधी के ड्राइवर थे, सीएम कमलनाथ?

जिन तस्वीरों में पीएम मोदी की मां हीराबेन ऑटो में और ऑटो के बाहर दिख रही हैं वो 4 मई, 2014 की हैं. जब लोकसभा चुनाव के दौरान मोदी की मां गांधीनगर के पोलिंग स्टेशन पर वोट डालने गई थीं जिन्हें वर्तमान के केंद्रीय सामाजिक न्याय राज्य मंत्री विजय सांपला ने ट्वीट किया था.. बता दें कि तब नरेंद्र मोदी गुजरात के सीएम थे. और हीराबेन ऑटो से ही वोट डालने गई थीं.

और जो एक अलग तस्वीर है वो हीराबेन की बीमारी वाली और ये 26 फरवरी, 2016 की है. दरअसल उस दौरान हीराबेन को सांस लेने में दिक्कत हुई थी. जिसके चलते उन्हें गांधीनगर सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. तब उन्हें ऑटो से नहीं बल्कि एंबुलेंस से अस्पताल ले जाया गया था. इसलिए हमारी वायरल पड़ताल में तस्वीर तो ठीक निकली है. लेकिन जिन दावों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया गया है, वो बिलकुल फर्जी साबित हुए हैं.

जरुर पढ़ें:  पड़ताल : ईवीएम से निकल रहें है सांप ?

वीके न्यूज़ की मुहिम fight against fake news जारी है अगर आपके पास भी कोई ऐसी तस्वीर या पोस्ट है जिसकी सच्चाई पर आपको शक है तो उसे हमारे साथ साझा करें हम उसकी वायरल पड़ताल करके सच्चाई आप तक पहुंचायेगें.

Support Us

वीके न्यूज़ बिना कार्पोरेट मदद और फंडिग से चलने वाला संस्थान हैं. निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता के लिए हमें मदद करें.